Anupama Written Update 5th July 2023 Episode

anupama written update on tvchaska.com

Anupama Written Update 5th July 2023 Episode : घबराई हुई माया कपाड़िया हाउस में अनुपमा की तलाश करती है , अनुपमा और अनुज पार्क की बेंच पर बैठे रहते है और एक दूसरे को देखते हैं। ( बैकग्राउंड में तेरे मेरे दरमियां हैं… गाना बज रहा है)। अनुज अनुपमा को इतना कुछ होने के बाद भी उसके लिए कुछ समय निकालने के लिए थैंक्यू कहता है।
अनुज कहता है कि शायद यह उन दोनों का एक साथ शांति से बैठने का आखिरी पल है और इस पल के लिए वह अपनी 7 जिंदगियां कुर्बान कर सकता हैं। अनुज एक कविता सुनाता हैं जिसका अर्थ है कि उन्हें इस पल को जीवन भर संभाल कर रखना चाहिए।

वह आगे अनुपमा से कहता है कि अब वो अमेरिका के लिए पैकिंग शुरू करेगी; और उसे दोबारा माफी मांगने का मौका नहीं मिलेगा।
वह माया को अपने जीवन में लाने के लिए उससे माफी मांगता है, आदि। अनुपमा कहती है कि आगे बोलने की कोई जरूरत नहीं है और कहती है कि माया छोटी अनु की मां है और उसे माया और छोटी की देखभाल करनी चाहिए और वह चाहती है कि अनुज पाखी की जिम्मेदारी भी ले।

वह कहता है कि वह पाखी को भी अपनी बेटी मानता है और उसकी देखभाल करेगा; वह उससे प्रतिदिन या सप्ताह में कम से कम एक बार कॉल करने की रिक्वेस्ट करता है। अनुपमा कहती है कि अगर उसने नहीं भी बोला होता तो भी वह ऐसा करती।

अनुज कहता है कि यह अजीब है कि वे अलग हो रहे हैं , अनुपमा कहती है कि उनका दिल हालांकि एक है। अनुज का कहना है कि वह उसे देखने के लिए यूएसए आएगा, लेकिन उसके सामने नहीं आएगा। वह उसकी ओर देखता है. बैकग्राउंड में तेरे मेरे दरमियां.. गाना बजता रहता है।

वह कहती है कि वह उससे मिलने आ सकता है , तभी उसे माया की काल बार-बार आती है और पर वो उसे काट देता है।

वह आगे कहती हैं कि मैं कपाड़िया जी से प्यार करती हूं , अनुज भी कहता है मैं भी तुमसे प्यार करता हूं और तुम्हें अपना सबकुछ मानता हूं। वह शरमाते हुए कहती है मैं भी आपको सब कुछ मानती हूं।

माया अनुज को दोबारा कॉल करती , अनुपमा अनुज से माया का फोन उठाने के लिए कहती है। अनुज कॉल उठाता है और पूछता है कि क्या वह बाहर है। वह हाँ कहती है और अनुपमा से एक बार मिलने देने की विनती करती है। अनुपमा अनुज को हाँ कहने का इशारा करती है। अनुज उसे बताता है कि वे घर के पास एक बगीचे में हैं। माया उसे धन्यवाद देती है और कहती है कि वह वहां आ रही है।

अनुज कहता है कि अगर इस बार मैया कोई नाटक करेगी तो वह उसे नहीं छोड़ेगा। अनुपमा कहती है माया इस बार कुछ भी गलत नहीं करेगी। अनुज कहता है कि चलो उसके आने से पहले यहां से चले जाएं। अनुपमा बगीचे में माया को घबराई हुई हालत में इधर-उधर भागते हुए देखती है और उसे बुलाती है। माया उसके पास पहुंचती है, उसके पैरों पर गिर जाती है और अपने पापों के लिए माफी मांगती है। वह उनके बीच आने और उन्हें परेशान करने के लिए माफी मांगती है। वह कहती है कि उसने अनुपमा की बेटी और पति को छीन लिया, लेकिन अनुपमा इतनी अच्छी है कि उसने केवल उसे आशीर्वाद दिया; उसे बुरा लगा जब उसकी बेटी ने बताया कि वह उससे ज्यादा अनुपमा से प्यार करती है। वह अनुज से उसकी अनुपमा से अलग करने के लिए माफी मांगती है और अनुज और अनुपमा से दूर न जाने की विनती करती है क्योंकि वे एक-दूसरे के लिए ही बने हैं। वह हमेशा के लिए उन दोनों से दूर जाने का वादा करती है।

अनुपमा कहती है कि अगर वह अपने सपनों के साथ अमेरिका नहीं गई तो गुरुमां के सपने और विश्वास टूट जायेगा और वह ऐसा नहीं कर सकती; भविष्य का तो भगवान ही जानता है, लेकिन अभी तो वह अमेरिका जायेगी।

माया कहती है कि वह अनुज और छोटी अनु को अकेला नहीं छोड़ सकती। अनुज कहता है कि अगर माया सच में बदल गई है तो वह और अनुपमा हमेशा उसका साथ देंगे। माया अनुपमा को गणपति की मूर्ति सौंपती है और खांसने लगती है। अनुपमा उसके लिए पानी लेने जाती है। माया अनुपमा की ओर एक तेज रफ्तार ट्रक को देखती है, दौड़ती है और उसे धक्का देती है, और खुद ट्रक के नीचे आ जाती है और मर जाती है।

PRECAP: माया के अंतिम संस्कार के दौरान, लीला कहती है कि उसे नहीं लगता कि अनुपमा इस बार भी अमेरिका जा पायेगी। बरखा कहती है कि छोटी अनु की एक मां दुनिया छोड़ गईं और दूसरी देश छोड़ रही हैं। वनराज अनुपमा को सुझाव देता है कि वह कभी किसी के लिए न रुके।


Leave a Comment