Anupama Written Update 19 July 2023 Episode

Anupama Written Update 19 July 2023 Episode: अनुपमा बताती रहती है कि कैसे उसने माया की आत्मा और उसके दिल की बात सुनी और किसी तरह प्लेन से बाहर आ गई। और बाहर आते ही उसने देखा कि अनाथालय से कई मिस्ड कॉल है और जब उसने वहाँ पर कॉल किया, तो उसे पता चला कि छोटी वहां है।

उसका और छोटी का एक ही समय में मुंबई में होना भगवान का संकेत है; वह किसी तरह अपनी बेबली तक पहुंची; माया भी यही चाहती है।

वह माया की आत्मा को याद करती है जो उसे उसकी बेबली की देखभाल करने का संकेत देती है और गायब हो जाती है। वह आगे अनुज से कहती है कि वह आश्रम में पूछ रहा था न कि वह क्या देख रही है, वह माया को देख रही थी। वह कहती है कि कई साल पहले उसने अपने सपने का त्याग किया था क्योंकि वह स्वीटी की माँ बनने वाली थी और अब रुक गई है क्योंकि वह अब छोटी की मां है, इसलिए फिर से उसने अपने सपने का त्याग कर दिया, लेकिन उसके अंदर की मां तब भी खुश थी और अब भी खुश है।

वह अपनी बेटी के साथ सही करने और गुरुमाँ से उनके साथ गलत करने के लिए माफ़ी मांगती है। वो हाथ जोड़कर कहती है कि वो किसी भी सजा का सामना करने के लिए तैयार है। उसके साथ पूरा शाह परिवार और कपाड़िया परिवार हाथ जोड़कर उसके साथ खड़ा हो जाता है।

गुरुमाँ कहती हैं कि एक गुरु/शिक्षक का आशीर्वाद एक शिष्य का जीवन बना सकता है तो श्राप उसे पूरी तरह से नष्ट भी कर सकता है। उसने सोचा था कि अनुपमा को गुरुकुल की जिम्मेदारी देकर चैन से मर पायेगी, लेकिन अब जब तक वह जिंदा है, अनुपमा को चैन से नहीं जीने देगी; और अनुपमा को पूरी तरह बर्बाद कर देगी और कोई शाह या कपाड़िया उसे बचा नही पायेगा।उन सभी ने एक माँ की महानता देखी और अब उसका विनाश देखेंगे।

कुछ समय बाद, अनुपमा छोटी को सुलाते हुए गुरुमाँ के थप्पड़ और चुनौती को याद करती है। अनुज उसके गाल पर गर्म सेक लगाता है। अनुपमा कहती है कि दर्द दूर हो जाएगा लेकिन गुरुमाँ का गुस्सा नहीं। अनुज का कहना है कि गुस्सा करना गुरुमाँ का अधिकार है और माफ़ी माँगना उसका अधिकार है, उसे तब तक माफ़ी माँगते रहना चाहिए जब तक कि गुरुमाँ उसे माफ नहीं कर देतीं।

शाह हाउस में, वनराज मालती देवी के गुस्से को याद करता है और परिवार से कहता है कि अनुपमा को नहीं रुकना चाहिए था क्योंकि मल्टी देवी उसे नहीं छोड़ेगी। हसमुख कहते हैं कि गुरु का श्राप व्यर्थ नहीं जाएगा। किंजल कहती है कि अगर वह अपने शिष्य को श्राप देती है तो फिर वो गुरु नहीं है।

लीला कहती है कि जो भी हो, गुरु का श्राप निश्चित रूप से अनुपमा को लगेगा। काव्या कहती है कि किंजल सही है, और अच्छा हुआ कि उसने समर को घटना के बारे में नहीं बताया। लीला कहती है कि उसने सही किया।

तोशु कहता है कि किंजल सही है, मल्टी देवी को अनुपमा को श्राप नहीं देना चाहिए था। तभी डिम्पी कहती है कि मल्टी देवी को कितना ज्यादा घाटा हुआ है। तोशु बोलता है कि अनुज उसके नुकसान की भरपाई कर देगा। डिंपी कहती है कि कोई भी कलाकार अपनी प्रतिष्ठा को ऐसे बर्बाद होने को बर्दाश्त नहीं करेगा।

वनराज कहता है कि जब अनुपमा को पता था कि वह गलत है तो वह वापस क्यों आई। काव्या कहती है कि उसे और क्या करना चाहिए था। तोशु कहता है कि मुंय के साथ अनुज और छोटी भी तो जा सकते थे ,अनुज पहले भी माया के पीछे मुंबई गया था, तो वह US क्यों नहीं जा सकता। हसमुख सबसे बहस बंद करने के लिए कहते है, और कहते है कि अनुपमा ने अपने दिल की बात सुनी और यह गलत नहीं है।

वनराज को मालती देवी के गुस्से का डर है ,वो कहता है कि मालती देवी जो भी करेंगी उसका असर उन पर भी पड़ेगा। लीला पूछती है कि अनुपमा की गलती वो लोग क्यों भुगतेंगे। डिंपी कहती है कि वनराज सही है। तोशु भी कहता है कि मालती देवी गुस्से में ये नहीं देखेगी कि बीच में कौन आ रहा है। लीला उम्मीद करती है कि मालती देवी अनुपमा को माफ कर देंगी। डिंपी पूछती है कि अगर उन्होंने माफ़ नहीं किया तो क्या होगा।

कपाड़िया हाउस में ,अंकुश अनुज के लिए कॉफी लाता है और पूछता है कि अनुपमा कैसी है। अनुज कहता है कि वह दुखों के तूफान से दबी हुई है, एक तरफ माया की मौत का अपराध बोध है और दूसरी तरफ गुरुमाँ का गुस्सा है। अंकुश कहता है कि फिर भी अनुपमा को छोटी कि फ़िक्र है।

अनुज कहता है कि वह मालती देवी का नुकसान चुकाएगा और अगर वह कानूनी कार्रवाई करेगी तो उसे भी चुनौती देगा, लेकिन अनुपमा को नुकसान नहीं पहुंचाने देगा। अंकुश उम्मीद करता है कि मालती देवी अनुपमा को माफ कर देंगी। पर अनुज को लगता है कि मालती देवी निश्चित रूप से हमला करेगी पर देखना ये है कि कब और कहाँ। अनुपमा उनकी बातचीत सुनती है।

गुरुकुल में मालती देवी को अनुपमा का धोखा याद आता है। नकुल उनसे तनाव न लेने के लिए कहता है और कहता है कि उसने प्रायोजकों को आगे आने वाले शो में घाटे कि पूर्ति करने के लिए मना लिया है। मालती देवी कहती है कि यह घाटे के बारे में नहीं है, यह अनुपमा के विश्वासघात के बारे में है। नकुल का कहना है कि अनुपमा पूरी तरह से गलत नहीं है ,इस बात पर मालती देवी नकुल को फटकारते हुए कहती है कि अगर वह अनुपमा का समर्थन करता है तो वह भी जा सकता है। नकुल पूछता है कि वह उसे छोड़कर कहां जाएगा क्योंकि वह उसकी गुरु, मां, सब कुछ है।

मालती देवी सोचती है कि अनुपमा को मां होने पर गर्व है न तो अब वह अनुपमा के मातृत्व पर हमला करेगी। वह एक गाना गुनगुनाती है और आराम करती है।

अगली सुबह, अनुपमा तुलसी पूजा करती है और भजन गाती है। वह कान्हाजी से प्रार्थना करती है कि उन्होंने उसके लिए केवल 2 रास्ते खोले, एक उसके सपनों के लिए और दूसरा उसके परिवार के लिए, उसने पारिवारिक रास्ता चुना क्योंकि उसका मन हमेशा अपने परिवार के पीछे है, उसे अपने फैसले पर गर्व है।

वह माया की आत्मा की शांति, अनुज और छोटी की खुशी, शाह परिवार की खुशी और गुरुमां की मानसिक शांति के लिए प्रार्थना करती है। फिर वह माया की तस्वीर से बात करती है और कहती है कि उसकी बेटी उसकी मौत से गहरे दुःख में है और वह उसे जल्द ही उसके दुःख से बाहर निकालने का वादा करती है, कहती है कि उसने आज अपनी बेटी के लिए कुछ खास योजना बनाई है।

PRECAP: वनराज एक समाचार पढ़ता है जहां डिंपी पुष्टि करती है कि अनुपमा ने मालती देवी के साथ किया हुआ अनुबंध तोड़ दिया है। लीला कहती है कि उसने उन्हें चेतावनी दी थी कि डिम्पी उनके घर को नष्ट कर देगी। डिंपी कहती है कि उसने कुछ भी गलत नहीं कहाँ। वनराज कहता है कि अनुपमा को नहीं पता कि उसके जीवन में कितना बड़ा तूफान आने वाला है। गुरुमां अनुपमा को शीला की जवानी.. गाने पर डांस कराती हैं।


Leave a Comment